07 जून, 2009

एक सुझाव बिजली से हटकर ..सड़क रेल यातायात को लेकर


रेल मंत्रालय को एक सुझाव
"बिल्ड आपरेट एण्ड टैक्स "(B.O.T.) पद्धति पर रोड रेल क्रासिंगों पर ओवर ब्रिज बनाये जावें
आज देश भर में ढ़ेरो लेवल क्रासिंग है , जहां रेलवे फाटक बंद होने से सड़क यातायात प्रभावित होता है . मेरा सुझाव है कि यदि इन लेवल क्रासिंगों पर "बिल्ड आपरेट एण्ड टैक्स "(B.O.T.) पद्धति से निजि निवेश से ओवर ब्रिज बनाये जावें तो सरकार का कोई व्यय नहीं होगा , उल्टे सुरक्षा निधि जमा करवाने से आय ही होगी . निजि निवेशक टर्न की आधार पर ओवर ब्रिजों का निर्माण करेंगे व टोल टैक्स के रूप में ापनी पूंजी व मुनाफा उन वानों से वसूल कर सकेंगे जो इन ओवर ब्रिज का उपयोग ापनी सुविधा हेतु करेगे .मंदी के इस दौर में इस तरह ढ़ेर से रोजगा , व इंफ्रास्ट्रक्चरल विकास हो सकेगा . लोगो को सुरक्षित व त्वरित यातायात सुलभ होसकेगा .
आशा हे मेरा सुझाव उपयोगी होगा .
विवेक रंजन श्रीवास्तव
०९४२५८०६२५२

2 टिप्‍पणियां:

  1. रोड रेल क्रासिंगों पर ओवर ब्रिज बनाये जाने चाहिए मै आपके विचारो से शतप्रतिशत सहमत हूँ . यदि गोरखपुर जबलपुर स्थित रोड छोटी लाइन रेल क्रासिंग पर ओवर ब्रिज होता तो यातायात अनावश्यक रूप से अवरुद्ध न होता . लोगो को भारी परेशानियो का सामना करना पड़ता है आप भी इस तथ्य से भालीभाती परिचित है . एक अच्चा मुद्दा उठाने के लिए आपका तहेदिल से आभारी हूँ .

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आपकी प्रतिक्रिया का.....